NEET 2017: कितनी रहेगी कटऑफ, जानिए क्या है एक्सपर्ट्स की राय

एमबीबीएस और बीडीएस कोर्सेज में दाखिले के लिए 11 लाख से ज्यादा छात्रों ने रविवार को देश भर के 1900 केंद्रों पर राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट - एनईईटी) में हिस्सा लिया. जहां विद्यार्थियों को आंसर-की का बेसब्री से इंतजार है, वहां उनके जेहन में नीट की कटऑफ को लेकर सवाल उठ रहे हैं. कटऑफ को  लेकर तमाम एक्सपर्ट्स भी अपनी-अपनी राय दे रहे हैं. बहुत से प्राइवेट एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स ने भी अपनी आंसर-की और कटऑफ लिस्ट जारी की है. 
राजशेखर रात्रे (वीपी एजुकेशनल कंटेंट, Toppr.com) ने कहा, इस वर्ष नीट का पेपर कठिनाई और लेंथ के नजरिए से मध्यम स्तर का था. वह न तो ज्यादा मुश्किल था और न ही ज्यादा कठिन. हालांकि पिछले साल की तुलना में इस वर्ष कठिनाई और लेंथ के नजरिए से प्रश्न पत्र थोड़ा मुश्किल था. आकाश एजुकेशनल सर्विसेज के डायरेक्टर आकाश चौधरी ने कहा कि फिजिक्स के प्रश्न औसत से ऊपर थे. पेपर में आसान, मध्यम और मुश्किल प्रश्नों का मिश्रण था. 
NEET 2017 कटऑफ 
इस बार कितनी कटऑफ जाने की उम्मीद है? इस प्रश्न पर राजशेखर रात्रे के कहा, ''हमारे एक्सपर्टस ने अनुमान लगाया है कि इस बार जनरल कैटेगरी के लिए कटऑफ 380 से 410 के बीच रहेगी.'' 
परीक्षा में कुल 180 प्रश्न पूछे गए. पूरा पेपर 720 अंकों का था. प्रत्येक सही उत्तर के लिए परीक्षार्थी को चार अंक मिलेंगे. चूंकि मार्किंग स्कीम में नेगेटिव मार्किंग का प्रावधान भी है इसलिए प्रत्येक गलत उत्तर के लिए एक अंक काटा जाएगा. यानी अगर एक्सपर्ट्स की मानें तो अगर कोई उम्मीदवार 400 के आसपास स्कोर करता है तो उसकी सीट पक्की मानी जा सकती है. 
एमबीबीएस की 65 हजार और बीडीएस की 25 हजार सीटों के लिए रेस 
रविवार को परीक्षा का आयोजन करने वाले केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने 103 शहरों में परीक्षा केंद्रों पर 490 अधिकारियों को तैनात किया था. बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘परीक्षा का आयोजन सुबह दस बजे से दोपहर एक बजे तक दस भाषाओं में 103 शहरों के 1921 केंद्रों पर ऑफलाइन मोड में एमबीबीएस की 65 हजार और बीडीएस की 25 हजार सीटों के लिए हुआ.’’ परीक्षा में कुल 11 लाख 38 हजार 890 छात्रों ने हिस्सा लिया जिनमें 1522 एनआरआई और 613 विदेशी छात्र शामिल हुए.