विचार

क्या असफल हो गया है काले धन पर मोदी का नैतिक प्रहार?

 पूरे देश से नये नोटों के जखीरे पकड़े जाने की डरावनी खबरें लगातार आ रही हैं। करोड़ों रुपये के नये नोट जो जिनके पास सत्ता है, शक्ति है, संपर्क हैं, संबंध हैं, व्यवस्था में घुसपैठ और काला धन है, उनकी जिंदगियां यथावत चल रही हैं।...

नोटबंदी : नैतिकता की लड़ाई

वास्तविकता यह है कि जिस तरह एक सरकारी फैसले को जमीनी स्तर तक ठीक से पहुंचाने की प्रशासनिक और तकनीकी तैयारी पूरी नहीं थी, उसी तरह इस कदम की नैतिकता को भी लोगों के जेहन तक पहुंचाने की तैयारी भी पूरी नहीं थी। भ्रष्टाचार अनैतिक...

नोटबंदी : राष्ट्रविरोधियों की लाल, नीली और हरी पूंजियों पर हमला

 सच यह है कि यह पूंजी युद्ध है। वैसे तो पूंजी का कोई रंग नहीं होता, लेकिन स्थान-काल और पात्र उसे रंग दे देते हैं। इस हाथ में पूंजी है तो सफेद, उस हाथ में गयी तो काली। इसकी कमाई है तो सफेद उसकी है...