दक्षिण और उत्‍तर कोरिया की समुद्री सीमा पर सामने आई एक क्रूर घटना

सियोल।दक्षिण और उत्‍तर कोरिया की समुद्री सीमा पर एक क्रूर घटना सामने आई है। दक्षिण कोरिया ने उत्तर कोरिया पर उसके एक अधिकारी की हत्या का आरोप लगाया और उत्तर कोरिया से दोषियों को सजा देने की अपील की। अंतर-कोरियाई समुद्री सीमा में अनधिकृत रूप से मछली पकड़ने की घटनाओं पर नजर रखने के लिए तैनात दक्षिण कोरियाई नौका से सोमवार को एक सरकारी अधिकारी लापता हो गया था।
दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्रालय ने बताया कि लापता अधिकारी मंगलवार दोपहर उत्तर कोरियाई तट पर था। अधिकारी वहां कैसे पहुंचा इसका अभी तक पता नहीं चल पाया है। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि हम विभिन्न खुफिया जानकारियों के आधार पर इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि यह उत्तर कोरिया की ‘नृशंस हरकत’ है। उन्‍होंने बताया कि उत्‍तर कोरिया के सैनिकों ने अधिकारी को पहले गोली मारी, फिर उसके शव को तेल डालकर जला दिया।
रक्षा मंत्रालय ने बताया कि दक्षिण कोरिया इसकी कड़ी निंदा करता है। उत्तर कोरिया ने अभी तक इन आरोपों पर कोई बयान जारी नहीं किया है। बता दें कि उत्‍तर कोरिया ने अपनी सीमा पर पहरे को कड़ा कर दिया है और माना जाता है कि देश में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए उसने देखते ही गोली मारने का आदेश दिया हुआ है।
अमेरिका और पश्चिमी देशों के कड़े प्रतिबंधों के कारण उत्तर कोरिया में स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति बहुत खराब है। ऐसे में किम जोंग उन को डर सता रहा है कि अगर उनके देश में कोरोना वायरस फैलता है तो उसे रोकना बहुत मुश्किल हो जाएगा। उत्तर कोरिया ने जनवरी में ही कोरोना के डर से चीन से लगती अपनी सीमाओं को सील कर दिया था। वहीं, जुलाई में उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया ने बताया था कि देश में कोरोना के कारण आपातकाल की घोषणा कर दी गई है।
वॉशिंगटन में सेंटर फॉर स्ट्रेटजिक एंड इंटरनेशनल स्टडी के एक कार्यक्रम में यूएस फोर्स कोरिया के कमांडर रॉबर्ट अबराम ने कहा कि उत्तर कोरिया ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए चीन सीमा से घुसपैठ करने वाले किसी भी शख्स को देखते ही गोली मारने का आदेश दिया है। उसने अपनी सीमा पर एक से दो किलोमीटर के इलाके को बफर जोन बना दिया है। जिसमें किम जोंग उन की स्पेशल ऑपरेशन फोर्स तैनात है।