आर्थिक मुद्दे पर प्रियंका का सरकार पर निशाना, कहा- 'सारे वादे झूठे हैं'

नई दिल्ली।कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी ट्वीट कर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। शनिवार को प्रियंका ने टि्वटर के जरिए केंद्र सरकार पर हमला बोला। शुक्रवार को अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर बुरी खबर आई। मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट गिरकर 4.5 प्रतिशत पर पहुंच गई।
इस मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरते हुए प्रियंका ने ट्वीट किया, 'वादा तेरा वादा...2 करोड़ रोजगार हर साल, फसल का दोगुना दाम, अच्छे दिन आएँगे, Make in India होगा, अर्थव्यवस्था 5 ट्रिलियन होगी... क्या किसी वादे पर हिसाब मिलेगा? आज GDP ग्रोथ 4.5% आई है। जो दिखाता है सारे वादे झूठे हैं..'...और तरक्की की चाह रखने वाले भारत और उसकी अर्थव्यवस्था को भाजपा सरकार ने अपनी नाकामी के चलते बर्बाद कर दिया है।'
ताजा आंकड़े सरकार के लिए अच्छे संकेत लेकर नहीं आए। बीते करीब साढ़े 6 साल में यह भारतीय अर्थव्यवस्था की सबसे धीमी विकास दर है। एक साल पहले यह 7 प्रतिशत थी जबकि पिछली तिमाही में यह 5 प्रतिशत थी। इसके अलावा, अक्टूबर महीने में 8 कोर सेक्टरों का इंडस्ट्रियल ग्रोथ -5.8 प्रतिशत रही है।
जीडीपी के निराशाजनक आंकड़ों पर सरकार का रुख हालांकि सकारात्मक है। शुक्रवार को सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार के. वी. सुब्रमण्यन ने कहा कि तीसरी तिमाही में जीडीपी एक बार फिर रफ्तार पकड़ सकती है। उन्होंने कहा, 'हम एक बार फिर कह रहे हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था की बुनियाद मजबूत बनी रहेगी। तीसरी तिमाही में जीडीपी के रफ्तार पकड़ने की उम्मीद है।'
वित्त मंत्रालय भी जीडीपी ग्रोथ बढ़ने को लेकर आशावान है। मिनिस्ट्री ने कहा अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने इस साल अक्टूबर में अपनी वर्ल्ड इकनॉमिक रिपोर्ट में अनुमान लगाया है कि 2019-20 के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ 6.1 प्रतिशत और 2020-21 में 7 प्रतिशत रहेगी।
इससे पहले बुधवार को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंदी की अटकलों को खारिज कर दिया था। सीतारमण ने यूपीए सरकार के दौरान आर्थिक आंकड़ों की तुलना करते हुए कहा कि आर्थिक वृद्धि जरूर धीमी हुई है लेकिन अर्थव्यस्था कभी मंदी में नहीं गई।