मैं अभी भी हिंदुत्व की विचारधारा के साथ हूं : उद्धव ठाकरे

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस के प्रति नरम रुख के संकेत दिए हैं। उन्होंने फडणवीस पर तंज कसते हुए यह भी कहा कि मेैंने कभी नहीं कहा था कि 'लौटकर आऊंगा' लेकिन मैं यहां इस सदन में आया। उद्धव ने यह भी कहा कि उन्होंने देवेंद्र फडणवीस से बहुत कुछ सीखा है। इसी वजह से उनसे दोस्ती हमेशा बरकरार रहेगी। इसी के साथ उद्धव ने यह भी कहा कि मैं अभी भी हिंदुत्व की विचारधारा के साथ हूं और मैंने पिछले पांच वर्षों में कभी सरकार को धोखा नहीं दिया है।
महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस पर तंज कसते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा, 'मैंने कभी नहीं कहा था कि मैं लौटकर आऊंगा लेकिन मैं यहां, इस सदन में आया।' गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के प्रचार में देवेंद्र फडणवीस ने में मराठी में नारा दिया था- 'पुन्हा मीच' इसका अर्थ है- फिर से मैं ही। उद्धव ने कहा कि अगर आप (देवेंद्र फडणवीस) हमारे लिए अच्छे होते तो बीजेपी-शिवसेना में फूट की स्थिति नहीं पैदा होती।
उद्धव ठाकरे ने यह भी कहा, 'मैं बहुत किस्मतवाला मुख्यमंत्री हूं क्योंकि जो लोग मेरे विपक्ष में थे अब वे मेरे साथ हैं और मैं जिनके साथ था, वे लोग अब विपक्ष में हैं। मैं यहां अपने भाग्य और लोगों के आशीर्वाद से आया हूं। मैंने कभी किसी को नहीं बताया कि मैं यहां आऊंगा लेकिन मैं यहां आया।'
उद्धव ने यह भी कहा, 'मैं आपको (देवेंद्र फडणवीस) विपक्ष का नेता नहीं कहूंगा बल्कि आपको एक जिम्मेदार नेता के रूप में बुलाऊंगा। अगर आप हमारे लिए अच्छे होते तो यह सब (बीजेपी-शिवसेना में फूट) नहीं होता।' इससे पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की ओर से महाराष्ट्र विधानसभा में देवेंद्र फडणवीस विपक्ष के नेता चुने गए। विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले ने सदन में इसकी घोषणा की।
पटोले ने कहा कि विधानसभा में बीजेपी को विपक्षी पार्टी का दर्जा दिया गया है और फडणवीस विपक्ष के नए नेता होंगे। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और कुछ दूसरे मंत्रियों ने इसके लिए फडणवीस को बधाई दी।