बजट 2020 दशक का सबसे चुनौतीपूर्ण बजट

नई दिल्ली।जब अर्थव्यवस्था के तमाम आंकड़े सुस्ती की ओर इशारा कर रहे हों और जीडीपी विकास दर के एक दशक के निचले स्तर पर जाने का अनुमान हो, ऐसी स्थिति में वित्त मंत्री के लिए बजट कितना चुनौतीपूर्ण होगा, यह आसानी से समझा जा सकता है। यही नहीं, नॉमिनल ग्रोथ के घटकर 42 साल के निचले स्तर पर जाने का अनुमान जताया गया और इस महीने की शुरुआत में सरकार ने वित्त वर्ष 2019-20 में जीडीपी विकास दर 5% पर रहने का अनुमान जताया है।
इसके अलावा, अर्थव्यवस्था की रफ्तार में सुस्ती से केंद्र सरकार की आमदनी पर भी बड़ा प्रतिकूल असर पड़ा है और इस वित्त वर्ष में कुल आमदनी में 2 लाख करोड़ रुपये कम रहने की उम्मीद है। इन सबका यही अर्थ निकलता है कि केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के लिए उम्मीदों का वास्तविकता के साथ संतुलन बनाने का काम बेहद मुश्किल साबित हो सकता है।