महात्मा गांधी की कर्मस्थली पर हंगामे के बाद हिरासत में लिए गए कन्हैया कुमार

बेतिया।महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर बिहार के पश्चिमी चंपारण से गांधी मैदान तक की यात्रा की शुरुआत करने पहुंचे जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार हिरासत में ले लिए गए। CAA-NRC-NPR के विरोध में आयोजित यात्रा की शुरुआत से पहले ही प्रशासन ने कन्हैया को हिरासत में ले लिया, जिसके बाद उनके समर्थकों ने यहां जमकर हंगामा किया। बताया जा रहा है कि कन्हैया बेतिया के गांधी मैदान में एक सभा को संबोधित करने वाले थे, हालांकि प्रशासन ने इसकी इजाजत नहीं दी। इसके खिलाफ ही कन्हैया भितिहरवा आश्रम के बाहर धरने पर बैठे थे।
कन्हैया ने कहा कि उन्होंने अपने कार्यक्रम की सूचना पहले ही प्रशासन को दे दी थी, लेकिन इसके बावजूद भी प्रशासन के लोगों ने उन्हें रोक दिया। इससे पहले कन्हैया अपने समर्थकों के साथ गांधी आश्रम पहुंचे थे, जहा उन्होंने मूर्ति पर माल्यार्पण किया। बेतिया के गांधी मैदान में कन्हैया दोपहर 1 बजे सभा करने वाले थे। हालांकि बसंत पंचमी के कारण कानून व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए डीएम ने इसकी इजाजत नहीं दी।
इसके बाद कन्हैया आश्रम के बाहर धरने पर बैठे तो उन्हें हिरासत में ले लिया गया। कन्हैया महात्मा गांधी के शहीद दिवस पर जिस यात्रा की शुरुआत करने वाले थे, उसका 29 फरवरी को पटना में आयोजित 'देश बचाओ-संविधान बचाओ' और 'नागरिकता बचाओ रैली' के दौरान होना था।
गुरुवार को हिरासत में लिए गए कन्हैया को प्रशासन ने भीड़ के विरोध के बाद भितिहरवा आश्रम के बाहर ही लोगों को संबोधित करने की अनुमति दी। इस दौरान कन्हैया ने सभा में केंद्र की मोदी सरकार और बिहार की नीतीश कुमार सरकार पर भी जोरदार हमला बोला। उन्‍होंने कहा कि गांधी की हत्या करने वाले विचारधारा के लोग देश को सिर्फ धर्म और जाति के नाम पर तोड़ना चाहते हैं जबकि देश में बेरोजगारी एवं गरीबी जैसे मुद्दे हैं जिस पर सरकार का ध्यान नहीं है।