संत रविदास के विचारों और संदेशों के कारण भारत एकता के सूत्र में बंधा है : मुख्यमंत्री

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि संत रविदास महाराज के विचार और उनके समाज को दिये गये संदेश के कारण ही आज हमारा भारत एकता के सूत्र में बंधा हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार जवाबदेह सरकार है। हमने अपने ग्यारह माह के कामकाज का ब्यौरा दिया है। आने वाले हर साल में सरकार बतायेगी कि कृषि के क्षेत्र में किसानों के साथ न्याय हुआ है, नौजवानों को रोजगार मिला है, भूमिहीनों को पट्टा मिला है और प्रदेश के सभी वर्गों का सर्वांगीण विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता को हम निराश नहीं होने देंगे। मुख्यमंत्री आज संत रविदास जी की 643वीं जयंती पर सागर में विशाल समागम समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने सागर में संत रविदास जी की स्मृति में 1 करोड़ की लागत से संत रविदास भवन बनाने की सौगात दी।
पंद्रह साल की बेहाल व्यवस्था विरासत में मिली
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की जनता ने साढ़े बारह माह पहले विश्वास और उम्मीद के साथ सत्ता की बागडोर हमें सौंपी थी। प्रदेश के हालात अच्छे नहीं थे। किसानों की आत्महत्या, नौजवानों की बेरोजगारी और महिलाओं के साथ होने वाले शारीरिक अत्याचारों में मध्यप्रदेश नम्बर वन था। सरकार की तिजोरी खाली थी। इन विपरीत परिस्थितियों में हमने प्रदेश की बदहाल व्यवस्था को सुधारने की चुनौती स्वीकार की और हमें कुछ माह में ही बेहतर परिणाम भी देखने को मिले। इसका मुख्य कारण यह है कि हम अच्छी नीयत और नीति के साथ काम कर रहे हैं।
कृषि क्षेत्र में क्रांति लाकर किसानों को खुशहाल बनायेंगे
मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को उनके अधिक उत्पादन का सही दाम मिलना जरूरी है। किसान ऋण माफी एक राहत है पर उन्हें आर्थिक रूप से सुदृढ़ बनाने का विकल्प नहीं है। सरकार किसानों को सही दाम दिलाने के साथ ही उन्हें ऐसी फसलों के लिए प्रोत्साहित करेगी जिनसे उनके आर्थिक हालातों में क्रांतिकारी परिवर्तन आएगा।
किसानों के दो लाख तक ऋण माफ करने के लिए सरकार वचनबद्ध है
मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों के दो लाख तक के ऋण माफी के लिए सरकार वचनबद्ध है। हर हाल में प्रत्येक पात्र किसान का दो लाख रुपये तक का ऋण माफ किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले चरण में 21 लाख किसानों का ऋण माफ किया गया है। दूसरे चरण की शुरुआत हो चुकी है जिसमें हम 7 लाख किसानों का साढ़े चार हजार करोड़ रुपये का ऋण माफ करेंगे।
निवेश से नौजवानों को रोजगार मिलेगा
मुख्यमंत्री ने कहा कि नौजवानों का भविष्य बेहतर होगा तो देश और प्रदेश का भी भविष्य बेहतर होगा। आज का नौजवान शिक्षित है, आधुनिक तकनीक से जुड़ा है और उसके पास ज्ञान है। आवश्यकता यह है कि हम प्रदेश के निर्माण में युवा शक्ति की ऊर्जा का बेहतर उपयोग करें। इसके लिए हमने निवेश का एक नया वातावरण बनाकर निवेशकों के विश्वास को हासिल किया है। उद्योग आए, इसके लिए प्रदेश की एक नई प्रोफाइल हम बना रहे हैं। उद्योग की स्थापना से आर्थिक गतिविधियाँ और बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बढ़ते हैं। आने वाले समय में हम प्रदेश के हर नौजवान को रोजगार से जोड़ेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले पंद्रह सालों में अनुकूल वातावरण न होने के कारण जितने उद्योग लगे नहीं उससे अधिक बंद हो गए।
मध्यप्रदेश के विकास का नया इतिहास बनाएंगे
मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता ने अपने विश्वास की जो शक्ति हमें दी है उसी के बल पर हम मध्यप्रदेश के विकास का एक नया इतिहास बनाएंगे। किसानों को उनकी उपज का दाम मिलेगा, नौजवानों को काम मिलेगा और सभी वर्गों के हितों को सुरक्षित रखने के लिए विभिन्न योजनाओं का लाभ उन तक पहुँचाना सुनिश्चित किया जाएगा।
सागर की जनता को निराश नहीं होने दूँगा
उन्होंने कहा कि मैं घोषणा करने में विश्वास नहीं रखता। काम करके जनता का प्रमाण-पत्र मुझे मिले, यह मेरी कार्य-शैली है। आज मैं सिर्फ इतना ही कहना चाहूँगा कि सागर के विकास संबंधी जनता की मांगों को पूरा किया जाएगा। 
वाणिज्यिक कर एवं जिले के प्रभारी मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर ने कहा कि सागर के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए मुख्यमंत्री संकल्पित हैं। जनता को जो वचन दिए थे उन्हें एक-एक कर पूरे करने का काम मुख्यमंत्री कर रहे हैं। मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश को एक नई ऊँचाई पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।
राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा कि मुख्यमंत्री ने हमेशा सागर के विकास की चिंता की है। जब वे केन्द्र में वन एवं पर्यावरण मंत्री थे तब उन्होंने सागर के लाखा बंजारी तालाब की साफ-सफाई और सौंदर्यीकरण के लिए वर्ष 2008 में 21 करोड़ रुपये स्वीकृत किए थे। जिसका उपयोग पूर्ववर्ती सरकार ने नहीं किया। मुख्यमंत्री ने अब इसी तालाब के लिए 100 करोड़ रुपये स्वीकृत किए हैं। जिसके टेण्डर हो चुके हैं और शीघ्र ही काम की शुरुआत होगी। 
सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण, अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री लखन घनघोरिया ने कहा कि प्रदेश के विकास के साथ शुद्धता के लिए भी मुख्यमंत्री काम कर रहे हैं। शुद्ध के लिए युद्ध के बाद अब माफिया मुक्त प्रदेश बनाने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार के साथ बिजली, पानी और सड़क जैसी बुनियादी सुविधाओं को विकसित करने का काम तेजी से कर रहे हैं।
कुटीर, ग्रामोद्योग, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हर्ष यादव ने कहा कि ऋण माफी जैसे एतिहासिक काम मुख्यमंत्री ने किए हैं। मात्र एक साल में प्रदेश की एक नई पहचान बनाने का उनका प्रयास परिणामों में परिवर्तित हो रहा है। 
तीन हजार करोड़ के विकास कार्य का शिलान्यास एवं लोकार्पण
मुख्यमंत्री ने समारोह में सागर के विकास के लिए कई सौगात देने के साथ ही तीन हजार करोड़ के विकास कार्यों का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। इनमें सागर बायपास का निर्माण, बस स्टेण्ड की शिफ्टिंग, फ्लाईओवर निर्माण का परीक्षण, पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज स्थित नजर बाग के तोड़े गए भवन का पुनर्निर्माण, 42 करोड़ की लागत से बने स्मार्ट सिटी लिमिटेड के इंट्रीग्रेटेड कमांड कंट्रोल सेंटर, 26 सौ करोड़ की सिंचाई योजना एवं साढ़े सत्रह करोड़ की लागत से बने नए कलेक्टर कार्यालय भवन का लोकार्पण शामिल है।
शासन की योजनाओं के हितग्राहियों को हितलाभ वितरित
मुख्यमंत्री ने 24 सौ हितग्राहियों को भू अधिकार पत्र एवं 1275 हितग्राहियों को मुख्यमंत्री आवास योजना के स्वीकृति पत्र वितरित किए। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के 774 स्व-सहायता समूह को चक्रीय एवं सामुदायिक निवेश की राशि का 2 करोड़ 30 लाख रुपये का चैक भेंट किया। युवा उद्यमी योजना के बारह हितग्राहियों को 7 करोड़ 79 लाख से अधिक के ऋण स्वीकृति पत्र प्रदान किए। तीन हितग्राहियों को मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में 4 लाख 70 हजार रुपये के चैक दिए गए। मुख्यमंत्री ने मत्स्य उद्योग, उद्यानिकी, मुख्यमंत्री बाल हृदय एवं श्रवण उपचार योजना के हितग्राहियों को भी हितलाभ वितरित किए।