अपने नाम के आगे ‘‘ झूठा ’’ लगा लें शिवराज : कमलनाथ

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किसानों की कर्ज माफी के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के एक और झूठ का पर्दाफाश करते हुए कहा कि हमारी सरकार ने संबल योजना कभी बन्द नहीं की। पूर्व की भाजपा सरकार ने संबल योजना के नाम पर 76 लाख उन अपात्रों को जोड़ा था जो भाजपा से जुड़े थे।हमने इस योजना को बन्द नहीं किया अपितु नया सवेरा नाम देकर 1 जनवरी, 2019 से मार्च 2020 तक एक लाख एक हजार जरूरतमंदों को 896.97 करोड़ की सहायता राशि प्रदान की।जबकि भाजपा सरकार ने 1 अप्रैल 2018 से यह योजना चुनाव जीतने के लिए शुरू की थी और इसमें लगभग 32 हजार लोगों को 349 करोड़ की ही सहायता प्रदान की थी।
कमलनाथ ने कहा कि शिवराज सिंह को चाहिये कि वे अपने नाम के आगे उपनाम (तखल्लुस) ‘‘ झूठा ’’ लगा लें क्योंकि वे 15 साल मुख्यमंत्री, 15 माह पूर्व मुख्यमंत्री और अब सौदेबाजी से बनाई सरकार के मुख्यमंत्री के रूप में लगातार झूठ बोलकर जनता का विश्वास खोते जा रहे हैं।झूठ बोलकर राजनीति करना शिवराज जी का चरित्र बन चुका है।मेरा चरित्र सच्चाई के साथ राजनीति करना है ।
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि कर्ज काफी को लेकर झूठे प्रचार का विधानसभा में पर्दाफाश होने के बाद एक बार फिर शिवराज सिंह ने संबल योजना को लेकर झूठ बोला है।भाजपा सरकार ने चुनाव के पहले गरीबों को धोखा देने के लिए संबल योजना शुरू की थी कि वे उनके वोट हथिया लेंगे,पर ऐसा हुआ नहीं।संबल योजना में 2 करोड़ 27 लाख का पंजीयन गरीबों के नाम किया गया।जब इसका सत्यापन किया गया तो 76 लाख लोग गरीब थे ही नहीं और वे संबल योजना के नियमों के अनुसार अपात्र थे।यह नियम स्वयं भाजपा सरकार ने बनाए थे।ये 76 लाख वे थे जो भाजपा से प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े थे और चुनाव जिताने के लिए भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार कर रहे थे।उन्होंने कहा कि सरकारी धन का अपव्यय, फ़र्ज़ीवाडा व दुरूपयोग जिस शर्मनाक तरीके से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने अपने हित में किया है ,उसके लिए प्रदेश की जनता उन्हें कभी माफी नहीं करेगी।
कमलनाथ ने कहा कि इन अपात्रों को हटाने के बाद 1 करोड़ 53 लाख लोगों को हमने नया सवेरा योजना में शामिल किया ,जिन्हें जनवरी 2019 से मार्च 2020 तक जब तक मेरी सरकार थी तब तक एक लाख एक हजार लोगों को 896.97 करोड़ रूपये की सहायता हमने वितरित की।जबकि गरीबों को गुमराह करने वाले शिवराज जी ने अपने कार्यकाल में अंतिम दिनों में मात्र 32 हजार लोगों को 349 करोड़ रूपये की सहायता ही दी।
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि नया सवेरा योजना में श्रम विभाग के अंतर्गत योजनाओं में दी गई सहायता में भी कांग्रेस सरकार ने भाजपा सरकार से अधिक सहायता गरीबों को प्रदान दी ।
इसमें बिजली बिलों में गरीबों को जो राहत दी गयी वह अलग है।जिन योजनाओं में सहायता राशि दी गई वो शिवराज सरकार की अपेक्षा कई गुना अधिक है ।
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि शिवराज सिंह इस प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं उनके मुख से झूठ बोलना,लगातार झूठ बोलना, बार-बार झूठ बोलना शोभा नहीं देता है।उनके इस झूठ के कारण ही 2018 के चुनाव में मध्यप्रदेश की जनता ने उन्हें नकार दिया था।सौदेबाजी और बोली लगाकर उन्होंने सरकार तो बना ली पर अभी भी जनता से झूठ बोलना बन्द नहीं किया। एक बार फिर जनता उप चुनावों में झूठ का जवाब सच्चाई का साथ देकर देगी।