शिखर खेल अलंकरण समारोह : बोले मुख्यमंत्री - प्रदेश में खेलों का बेहतर प्रशिक्षण और सुविधाएं दी जाएंगी

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में खेलों का निरंतर विकास हो रहा है तथा वह मौका आएगा जब हमारे खिलाड़ी ओलम्पिक खेलों में गोल्ड मैडल प्राप्त करेंगे। मध्यप्रदेश में खिलाड़ियों को बेहतर खेल प्रशिक्षण एवं खेल सुविधाएं प्रदान की जाएंगी। साथ ही खिलाड़ियों की आवश्यकताओं का भी पूरा ध्यान रखा जाएगा। हमारा लक्ष्य है देश को सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी तैयार कर देना।
मुख्यमंत्री आज मिंटो हॉल में मध्यप्रदेश शिखर खेल अलंकरण समारोह 2019 में खिलाड़ियों को उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए विक्रम, एकलव्य, विश्वामित्र और लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार प्रदान कर रहे थे। 


ओलम्पिक में महिला हॉकी में प्रदेश की 6 खिलाड़ी
मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रदेश के लिए गौरव की बात है कि पिछले ओलम्पिक में महिला हॉकी टीम में मध्यप्रदेश की 6 खिलाड़ी शामिल हुई थीं। इस वर्ष प्रदेश की 2 खिलाड़ियों द्वारा भारत के लिए ओलम्पिक कोटा लाना गर्व का विषय है। जब प्रदेश के खिलाड़ियों के गले में मैडल टंगते हैं तो मामा का सिर गर्व से ऊँचा हो जाता है।
खेल के क्षेत्र में मध्यप्रदेश अग्रणी
मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में खेलों का निरंतर विकास हो रहा है। खेलों के क्षेत्र में मध्यप्रदेश आज भारत के अग्रणी राज्यों में है। वर्ष 2006 में जहां हमारा खेल बजट 5 करोड़ रूपए था आज 150 करोड़ रूपए है। आगे भी खेलों के विकास के लिए पैसों की कमी नहीं आने देंगे।
खेल विभाग बधाई का पात्र
मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश के खिलाड़ी खेलों में बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। एशियन गेम्स 2018 में मध्यप्रदेश की मुस्कान किरार ने तीरंदाजी में तथा हर्षिता तोमर ने सेलिंग में पदक प्राप्त किए। प्रदेश में खेलों के विकास के लिए विभागीय मंत्री सहित खेल विभाग का पूरा अमला बधाई का पात्र है।
मुख्यमंत्री के साथ कहा 'हम छूलेंगे आसमाँ'
मुख्यमंत्री ने प्रदेश के खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए कहा कि आपमें अनंत शक्तियां हैं, आप अमृत की संतान हैं। हिम्मत और हौसले के साथ खेलें। आपको सभी सुविधाएं हम दिलवाएंगे। कार्यक्रम में उपस्थित सभी खिलाड़ियों ने पूरे जोश से मुख्यमंत्री के साथ स्वर मिलाते हुए कहा 'हम छूलेंगे आसमाँ।'
मध्यप्रदेश दो ओलम्पिक कोटा लाया है देश के लिए
खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा कि यह मध्यप्रदेश के लिये गौरव की बात है कि हमारे खिलाड़ी देश के लिए दो 'ओलम्पिक कोटा' लेकर आए हैं। मध्यप्रदेश के ऐश्वर्य प्रताप सिंह और चिंकी यादव ने अगले ओलम्पिक के लिए ओलम्पिक कोटा हासिल किया है।
सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्री खेलों के प्रति अत्यंत संवेदनशील हैं। गत सरकार में वर्ष 2019 का खेल अंलकरण समारोह नहीं हुआ। खेल गतिविधियां भी पूरी तरह से बंद हो गई थीं। मुख्यमंत्री ने आते ही खेल गतिविधियां प्रारंभ कीं तथा आज वर्ष 2019 का खेल अलंकरण समारोह हो रहा है। कोविड संकट के बावजूद प्रदेश में पूरी सुरक्षा व सावधानियों के साथ अगस्त से खेल प्रशिक्षण हो रहा है।
खेल पुरस्कार वितरित किए, भोपाल के इनाम-उर-रेहमान को लाइफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने वर्ष 2019 के राज्य स्तरीय विक्रम, एकलव्य, विश्वामित्र एवं लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार प्रदान किए। वर्ष 2019 के लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार से भोपाल के ओलिंपियन हॉकी खिलाडी इनाम-उर-रेहमान को नवाजा गया। उन्होंने यह पुरस्कार वर्चुअल ग्रहण किया।
एकलव्य पुरस्कार-2019
व्यक्तिगत खेलों (ओलम्पिक, एशियन गेम्स एवं राष्ट्रीय खेलों में खेले जाने वाले खेल) में भिण्ड के अजातशत्रु शर्मा केनोइंग-कयाकिंग, देवास के आदित्य दुबे सॉफ्ट टेनिस, खरगौन के ऐश्वर्य प्रताप सिंह तोमर शूटिंग, भोपाल की  गार्गी सिंह परिहार कराते, जबलपुर की  अंशिता पाण्डे वूशु, इंदौर के परम पदम् बिरथरे तैराकी, भोपाल के शंकर पाण्डेय फैंसिंग, उज्जैन के अक्षत जोशी घुड़सवारी, इंदौर की अनुषा कुटुम्बले टेबल-टेनिस, धार के प्रियांशु राजावत बेडमिंटन और राजगढ़ के गोविन्द बैरागी सेलिंग को एकलव्य पुरस्कार प्रदान किए गए। दलीय खेलों (ओलम्पिक, एशियन गेम्स एवं राष्ट्रीय खेल में खेले जाने वाले खेल) में टीकमगढ़ की  शिवांगनी वर्मा सॉफ्टबॉल और ग्वालियर की  इशिका चौधरी हॉकी तथा परम्परागत खेलों (ओलम्पिक, एशियन गेम्स एवं राष्ट्रीय खेल में नहीं खेले जाने वाले खेल) में इंदौर की नित्यता जैन शतरंज को प्रदान किए गए।
विक्रम पुरस्कार-2019
व्यक्तिगत खेलों (ओलम्पिक, एशियन गेम्स एवं राष्ट्रीय खेल में खेले जाने वाले खेल) में भोपाल की राजेश्वरी कुशराम केनोइंग-कयाकिंग, भोपाल के फराज खान घुड़सवारी, इंदौर के अद्वेत पागे तैराकी, जबलपुर की  मुस्कान किरार आर्चरी, देवास के जय मीणा सॉफ्ट टेनिस तथा भोपाल की  चिंकी यादव शूटिंग को वर्ष 2019 के लिये विक्रम पुरस्कार दिए गए। दलीय खेलों (ओलम्पिक, एशियन गेम्स एवं राष्ट्रीय खेल में खेले जाने वाले खेल) में इंदौर की  पूजा पारखे सॉफ्टबॉल और ग्वालियर की करिश्मा यादव हॉकी को पुरस्कार दिया गया। दिव्यांग वर्ग (ओलम्पिक, एशियन गेम्स एवं राष्ट्रीय खेल में खेले जाने वाले खेल) में  जानकी बाई जूडो तथा परम्परागत खेलों (ओलम्पिक एशियन गेम्स एवं राष्ट्रीय खेल में नहीं खेले जाने वाले खेल) में भोपाल के चंद्रकांत हरडे थ्रो-बॉल को पुरस्कार मिला।
विश्वामित्र पुरस्कार-2019
व्याक्तिगत खेलों (ओलम्पिक, एशियन गेम्स एवं राष्ट्रीय खेलों में खेले जाने वाले खेल) में इंदौर के अभिलाष एम.टी. तैराकी और भोपाल के गिरधारी लाल यादव सैलिंग तथा दलीय खेल (ओलम्पिक, एशियन गेम्स एवं राष्ट्रीय खेल में खेले जाने वाले खेल) में इंदौर के शरद जपे खो-खो को विश्वामित्र पुरस्कार प्रदान किए गए।