करीना कपूर की दो टूक- सिर्फ नेपोटिज्म से इंडस्‍ट्री चलती तो 21 सालों तक काम नहीं कर पाती

इन दिनों बॉलिवुड में नेपोटिज्म के मुद्दे पर काफी बहस छिड़ी हुई है। दरअसल सुशांत सिंह राजपूत के फैन्स का कहना है कि नेपोटिज्म की वजह से बॉलिवुड में उनके साथ भेदभाव किया गया और उनके जान जाने की वजह भी इसी सी जुड़ी है। इस घटना के बाद से सोशल मीडिया पर उन सभी सितारों को लोगों ने जमकर ट्रोल किया जो नेपोटिज्म को बढ़ावा देने के मामले में आगे रहे हैं। इसी मामले पर करीना कपूर ने अपने हालिया इंटरव्यू में कुछ बातें कही हैं।
बता दें कि करीना को इंडस्ट्री में करीब 21 साल हो गए और बॉलिवुड को उन्होंने 'अशोका', 'चमेली', 'ओमकारा', कभी खुशी कभी गम' और 'जब वी मेट' जैसी तमाम फिल्में की हैं।
बरखा दत्त को दिए अपने इंटरव्यू में करीना कपूर ने नेपोटिज्म के डिबेट और इनसाइड होने को लेकर बातें की। उन्होंने कहा- 21 साल का काम केवल नेपोटिज्म के बल पर नहीं किया।
उन्होंने कहा कि नेपोटिज्म के बल पर यह संभव ही नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि उनके पास ऐसे स्टार किड्स की लंबी लिस्ट है जिसके लिए ऐसा संभव न हो सका।
करीना ने कहा कि उन्हें नहीं लगता है कि बॉलिवुड में जो कुछ उन्हें मिला है वह उनके बैकग्राउंड की वजह से मिला है।
करीना ने कहा- हो सकता है कि आपको यह सुनने में थोड़ा अजीब लगे, लेकिन इसके पीछे शायद मेरा स्ट्रगल है। मेरा स्ट्रगल था, हां यह वैसा नहीं जैसा कि कोई 10 रुपये पॉकेट में लेकर ट्रेन से आता है।
उन्होंने कहा- यह उस तरह का स्ट्रगल नहीं था और इसके लिए मैं शर्मिंदा नहीं हो सकती।
उन्होंने कहा- ऑडियंस ने हमें बनाया है और किसी ने हमें नहीं बनाया। ये वही लोग उंगली दिखा रहे हैं जिन्होंने उन्हें स्टार बनाया। आप जा रहे हो न फिल्म देखने? मत जाओ, कोई आपको जबरदस्ती नहीं करेगा। इसलिए, मुझे यह समझ नहीं आता। मुझे ये पूरी डिस्कशंस ही अजीब लगता है।
उन्होंने कहा- अक्षय कुमार, शाहरुख खान, आयुष्मान खुराना, राजकुमार राव जैसे कई बड़े स्टार्स आउटसाइडर्स हैं, लेकिन वे सक्सेसफुल हैं क्योंकि उन्होंने काफी मेहनत की है।
उन्होंने कहा- चाहे वह आलिया भट्ट हो या करीना कपूर, हमने काफी कड़ी मेहनत की है। आप हमारी फिल्में देखते हैं और इंजॉय भी करते हैं। तो यह ऑडियंस ही है जो हमें बनाती और तोड़ती है।'