देश में न फैले कोरोना, इसलिए नॉर्थ कोरिया ने दिया गोली मारने का आदेश : अमेरिका

वॉशिंगटन। दक्षिण में अमेरिकी सेनाओं के कमांडर के मुताबिक, उत्तर कोरिया के अधिकारियों ने कोरोनावायरस संक्रमित शख्स के चीन  से देश में प्रवेश करने से रोकने के लिए शूट-टू-किल (देखते ही गोली मारने के आदेश) जारी किए हैं. उत्तर कोरिया ने अभी तक देश में एक भी कोरोना केस की पुष्टि नहीं की है.
प्योंगयैंग ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए चीन से सटे बॉर्डर को जनवरी में ही बंद कर दिया था. जुलाई में राज्य मीडिया ने कहा कि इसने अपने आपातकाल की स्थिति को अधिकतम स्तर तक बढ़ा दिया है. US फोर्स कोरिया के कमांडर रॉबर्ट अब्राहम्स ने कहा कि बॉर्डर बंद होने की वजह से सामानों की तस्करी बढ़ गई है, जिसके चलते अब प्रशासन को हस्तक्षेप करना पड़ा है.
रॉबर्ट अब्राहम्स ने गुरुवार को वॉशिंगटन में सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज की ओर से आयोजित एक ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस में कहा, 'नॉर्थ कोरिया ने चीनी सीमा से सटे एक या दो किलोमीटर के इलाके को नया बफर जोन बनाया है. उन्होंने वहां पर नॉर्थ कोरिया की स्पेशल ऑपरेशंस फोर्स की तैनाती की है. उनको देखते ही गोली मारने के आदेश दिए गए हैं.'
उन्होंने कहा कि बॉर्डर बंद होने से चीन पर आर्थिक तौर पर असर पड़ा है. चीन के आयात में 85 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है. नॉर्थ ने अपने परमाणु कार्यक्रमों पर आर्थिक प्रतिबंधों को प्रभावी ढंग से तेज कर दिया है. वहीं दूसरी ओर नॉर्थ कोरिया मेयसक तूफान से भी जूझ रहा है. राज्य मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, तूफान की वजह से 2000 से ज्यादा घर नष्ट हो गए हैं.