चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने सेना से युद्ध की तैयारी पर फोकस रहने के लिए कहा : रिपोर्ट

चीन के राष्‍ट्रपति शी चिनफिंग ने अपने सैनिकों से युद्ध की तैयारी पर फोकस करने को कहा है. चीनी न्‍यूज एजेंसी Xinhua के हवाले से यह जानकारी दी गई है. न्‍यूज एजेंसी ने चीनी राष्‍ट्रपति के हवाले से कहा, 'सैनिकों को हाईअलर्ट पर रहना चाहिए...अपना दिमाग और ऊर्जा को युद्ध की तैयारी के लिए रखो.' चिनफिंग ने चाओझू सिटी में पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी  के मेरीन कार्प्‍स के दौरे के दौरान कहा कि सैनिकों को पूरी तरह वफादार और विश्‍वस्‍त होना चाहिए.
सूत्रों ने बताया कि राष्‍ट्रपति शी का कमेंट पूरी तरह से भारत के संदर्भ मेंनहीं है, हालांकि यह ऐसे समय आया है जब लद्दाख में दोनों देशों के बीच सीमा विवाद चल रहा है.टिप्‍पणी को अमेरिकी नौसेना के युद्धपोत के ताइवान जलडमरूमध्य (Taiwan strait) से गुजरने को लेकर चीन की प्रतिक्रिया से जोड़कर भी देखा जा रहा है. यह वह एरिया है जिसे लेकर चीन काफी संवेदनशील है.बीजिंग दक्षिण चीन सागर के कुछ क्षेत्रों पर संप्रभुता का दावा करता रहा है, जहां को लेकर वियतनाम, मलेशिया, फिलीपींस, ब्रुनई और ताइवान की ओर से भी जवाबी दावे किए गए हैं.
बीजिंग और वॉशिंगटन के संबंधों में कोरोना वायरस की महामारी और ताइवान को अमेरिका के खुले समर्थन के बाद तल्‍खी आ गई है जो एशिया-प्रशांत क्षेत्र में अपना प्रभाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा है. अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने हाल में ऐसे कई तर्क दिए थे कि कोराना वायरस वुहारन से आया और उन्‍होंने इस महामारी के लिए चीन को जिम्‍मेदार ठहराया था.एशिया-प्रशांत क्षेत्र के चार प्रमुख लोकतंत्र भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्‍ट्रेलिया की हाल ही मीटिंग में अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा था कि वुहान से आए वायरस की महामारी को चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी की छुपाने की कोशिश  ने और बदतर बना दिया. उन्‍होंने कहा था कि हम इस क्षेत्र के विभिन्‍न देशों की आजादी और संप्रभुता का ध्‍यान रखेंगे और चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी से इसे बचाएंगे.  उन्‍होंने कहा था, 'हमने इसे दक्षिण और पूर्वी चीन सागर, हांगकांग, हिमालय और ताइवान जलडमरुमध्‍य (Taiwan Strait) में इसे देखा है. यह इसके केवल कुछ उदाहरण हैं.