व्हाइट हाउस का बड़ा बयान - आलोचना को रोकना सही नहीं

वॉशिंगटन। व्हाइट हाउस की प्रवक्ता जेन साकी ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच हुई बातचीत में कोरोना वायरस के मुद्दे पर सहयोग की बातों का संक्षिप्त ब्यौरा दिया. इस दौरान जेन से जब पूछा गया कि भारत सरकार ने ट्विटर, फेसबुक, इंस्ट्राग्राम जैसे सोशल मीडिया पर कोरोना नियंत्रण को लेकर की जाने वालीं आलोचनात्मक टिप्पणियों को हटाने का आदेश दिया है, व्हाइस हाउस की इस पर क्या प्रतिक्रिया है, सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि ये दुनियाभर में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अमेरिकी विचार से मेल नहीं खाता है.
जेन साकी ने आगे कहा कि आलोचनाओं को रोकना सही नहीं है. कोविड-19 से लड़ाई में भारत की सहायता करने में अमेरिका के देर करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अमेरिका भारत समेत दुनियाभर में कोविड नियंत्रण में अग्रणी भूमिका निभा रहा है. भारत और अमेरिका दोनों को कोविड की गंभीर चुनौती का सामना करना पड़ा है. अमेरिका हर संभव मदद कर रहा है.
एस्ट्राजेनेका वैक्सीन दिए जाने के सवाल पर जेन साकी ने कहा कि FDA की सुरक्षा समीक्षा में अगर इस वैक्सीन को हरी झंडी मिलती है तो अमेरिका इसे दुनिया के देशों को देगा, इसमें भारत भी शामिल है.
बताते चलें कि कोरोना संकट के बीच पीएम मोदी और जो बाइडेन ने सोमवार को फोन पर बातचीत की. अमेरिका ने भारत को वैक्सीन बनाने के लिए कच्चा माल भेजने की बात रविवार को कही थी. इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति से प्रधानमंत्री मोदी की बातचीत महत्वपूर्ण मानी जा रही है. भारत में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए आपसी सहयोग को लेकर दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई.
अमेरिकी राष्ट्रपति से बातचीत करने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, 'जो बाइडेन से फलदायक बातचीत हुई. हमने दोनों देशों में COVID की स्थिति पर विस्तार से चर्चा की. मैंने भारत को संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा प्रदान किए जा रहे समर्थन के लिए राष्ट्रपति बाइडेन को धन्यवाद दिया.'