जब ऑस्‍ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन का नाम भूल गए अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडेन

सिडनी। ऑस्‍ट्रेलियाई लोगों को गुरुवार को उस समय बेहद हैरानी हुई जब अमेरिका के राष्‍ट्रपति जो बाइडेन ने नए रक्षा गठबंधन में शामिल होने के लिए उनके देश (ऑस्‍ट्रलिया ) के पीएम को धन्‍यवाद तो दिया लेकिन उनका नाम भूल गए. अमेरिका-ब्रिटेन-ऑस्‍ट्रेलिया के अहम भूमिका के लिए पीएम स्‍कॉट मॉरिसन का नाम लेने के बजाय उन्‍होंने 'इस ऑस्‍ट्रेलियाई शख्‍स ने " कहकर संबोधित किया. टीवी पर व्‍हाइट हाउस की ओर से की गई घोषणा में दिखाए गए वीडियो में विडेन के अलावा ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन और ऑस्‍ट्रेलिया के पीएम स्‍कॉट मॉरिसन भी नजर आए.  ये दोनों वर्चुअली इस कार्यक्रम में शामिल हुए थे. बाइडेन ने इस मौके पर एक समझौते के बारे में जानकारी दी जो ऑस्‍ट्रेलिया को परमाणु संचालित पनडुब्बियों से लैस  करेगा.
बाइडेन ने कहा, 'धन्‍यवाद बोरिस और .... मैं इस ऑस्‍ट्रेलियाई शख्‍स को धन्‍यवाद देना चाहूंगा. बहुत-बहुत धन्‍यवाद दोस्‍त.  हम इसकी सराहना करते है श्रीमान प्रधानमंत्री ऑस्‍ट्रेलिया के मीडिया में बाइडेन की यह 'भूल' सुखियों में रही. Cairns Post ने हैडलाइन में चलाई, 'शुक्रिया दोस्‍त, बाइडेन लगात हैमॉरिसन का नाम भूल गए . सिडनी मॉर्निग हेरल्‍ड ने अपने विश्‍लेषण में लिखा, 'डिफेंस डील की वह शानदार शुरुआत नहीं हो पाई जैसी कि मॉरिसन उम्‍मीद कर रहे थे. निश्चित रूप से जब जो बाइडेन अहम क्षणों में उनका (ऑस्‍ट्रेलियाई पीएम का) नाम भूल गए. '
सिडनी के डेली टेलीग्राफ में जेम्‍स मोरो के विश्‍लेषण में लिखा गया है कि यह असमंजस भरे क्षण इस अहम डील के महत्‍व को कम नहीं कर सकते. यह डील ऐसे समय हुई है जब एशिया प्रशांत क्षेत्र में चीनी सेना अपना प्रभाव बढ़ा रही है.गौरतलब है कि अफगानिस्‍तान मामले में बाइडेन को इस समय अपने मुल्‍क में काफी आलोचना का सामना करना पड़ा रहा है लेकिन  बाइडेन ने अफगानिस्तान से अमेरिकी सेनाओं की वापसी के फैसले का जोरदार तरीके से बचाव किया है. अमेरिकी सेनाएं 20 साल लंबे सैन्य अभियान के बाद अफगानिस्तान की सरजमीं छोड़ चुकी हैं. ये अमेरिकी इतिहास का सबसे लंबा और सबसे खर्चीला युद्ध रहा है.