खुले मन से आएं सचिन पायलट, देंगे लिखित आश्वासन : सुरजेवाला

नई दिल्ली।राजस्थान में सचिन पायलट की बगावत से कांग्रेस आलाकमान भारी दबाव में दिख रहा है। पार्टी के शीर्ष नेतृत्व की तरफ से पायलट को मनाने के लिए जीतोड़ कोशिशें हो रही हैं। पायलट के प्रति कांग्रेस की बेकरारी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पार्टी ने दोबारा विधायक दल की बैठक बुलाने का फैसला कर लिया है। हालात पर नियंत्रण पाने के लिए आलाकमान की तरफ से जयपुर भेजे गए तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल में शामिल रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि मंगलवार सुबह 10 बजे फिर से विधायक दल की बैठक बुलाई जाएगी।
सुरजेवाला ने पायलट और उनके किसी समर्थक विधायकों को भरोसा दिलाने के लिए यहां तक कहा कि बातचीत में जो शर्तें मानीं जाएंगी, उन पर लिखित आश्वासन दिया जाएगा। उन्होंने कहा, 'हम सचिन पायलट और सभी विधायकों से (विधायक दल की बैठक में) आने की अपील करते हैं। हम उन्हें लिखित में (आश्वासन) देंगे। हम उनसे आकर हालात पर चर्चा का आह्वान करते हैं।' सुरजेवाला ने आगे कहा, 'उनसे आने का आग्रह करता हूं। मेरी अपील है कि वो आएं और किस तरह 8 करोड़ जनता की मिलजुल सेवा करने के लिए राजस्थान को मजबूत किया जाए, इस पर चर्चा करें।'
उन्होंने पायलट और उनके समर्थकों को मनाने के लिए पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का भी हवाला दिया। सुरजेवाला ने कहा, 'अगर किसी के साथ कुछ मतभेद हैं तो उन्हें खुले दिमाग से बोलना चाहिए। सोनिया गांधी और राहुल गांधी हर किसी को सुनने और समाधान निकालने को तैयार हैं।'
ध्यान रहे कि सचिन पायलट ने सोमवार को आोजित कांग्रेस विधायक दल की बैठक का बहिष्कार किया। पार्टी की तरफ से जारी विप और उल्लंघन करने वालों पर कठोर कार्रवाई की चेतावनी का पायलट के बगावती तेवर पर कोई असर नहीं पड़ा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का खेमा अपने साथ 109 विधायकों के समर्थन का दावा कर रहा है जबकि पायलट को 20 विधायकों का साथ होने की बात कही जा रही है।