संप्रग सरकार के रिकॉर्ड का मजाक बनाने वालों की अयोग्यता पर हंस रहे हें अर्थशास्त्री: चिदंबरम

नयी दिल्ली।कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर शुक्रवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि संप्रग सरकार के रिकॉर्ड का मजाक बनाने वालों की अज्ञानता एवं अयोग्यता पर अर्थशास्त्री हंस रहे हैं।पूर्व वित्त मंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘ ऑक्सफ़ोर्ड पॉवर्टी एंड ह्यूमन डेवलपमेंट इनिशिएटिव (ओपीएचआई) के अध्ययन में पाया गया है कि 2005-2015 के दौरान 27 करोड़ भारतीयों को गरीबी से बाहर निकाला गया था। यह संप्रग-1 और संप्रग-2 के कार्यकाल की अवधि थी, जो भारत की आर्थिक वृद्धि का स्वर्णिम काल था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘2015 के बाद से राजग सरकार ने क्या किया है? इसकी वजह से लगातार नौ तिमाहियों के लिए आर्थिक विकास में गिरावट आई और 2020-21 में आसन्न मंदी के कारण भी यही है।’’ चिदंबरम ने दावा किया, ‘‘ के रिकॉर्ड का मजाक उड़ाने वालों को पता होना चाहिए कि अर्थशास्त्री उनकी अज्ञानता और अयोग्यता पर हंस रहे हैं।’’