मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा - प्रदेश में विधायकों की खरीद-फरोख्त को रेट बढ़ गया

जयपुर।राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि प्रदेश में विधायकों की खरीद-फरोख्त को रेट बढ़ गया है। जब से राज्यपाल कलराज मिश्र ने विधानसभा सत्र को हरी झंडी दी है तब से हॉर्स टेड्रिंग में विधायकों के भाव बढ़ गए हैं। यही कारण है कि पिछले 20 दिनों से कांग्रेस विधायकों की बाड़ाबंदी जारी है और अब अगले 14 दिन और विधायकों को होटल में ही कैद रहना होगा। यानी बाड़ाबंदी में कांग्रेस विधायकों और अन्य समर्थित विधायकों को 14 अगस्त को विधानसभा सत्र के आगाज तक सरकार कोई ढील नहीं देने वाली है।


मुख्यमंत्री गहलोत ने गुरुवार को विधायकों के रेट वाला बयान देकर अगले 14 दिन तक सियासी उठापटक की आशंका को बल दिया है। उन्होंने कहा, 'कल रात से जब से विधानसभा सत्र बुलाने की तिथि 14 अगस्त निर्धारित हुई है, तब से राज्य में खरीद-फरोख्त का ‘रेट’ बढ़ गया है।' उन्होंने कहा कि ‘कल रात से जब से विधानसभा सत्र बुलाने की घोषणा हुई है, राजस्थान में खरीद-फरोख्त का ‘रेट’ बढ़ गया है। इससे पहले पहली किश्त 10 करोड़ और दूसरी किश्त 15 करोड़ रुपये थी। अब यह असीमित हो गई है। सब लोग जानते हैं कौन लोग खरीद-फरोख्त कर रहे हैं।’
सीएम गहलोत ने एक बार फिर बागी विधायकों को मनाने की कोशिश की है। उन्होंने मीडिया के बीच सचिन पायलट का नाम लिए बिना कहा कि, 'मैं अब भी चाहता हूं कि जो असंतुष्ट विधायक कांग्रेस के सिंबल पर चुने गए हैं, वे विधानसभा सत्र में भाग लें।' उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करना मेरी जिम्मेदारी है कि वे जनता के सामने सरकार के साथ खड़े दिखाई दें।'