कंगना रानौत ने मुंबई पुलिस का अपमान किया है, उद्धव ठाकरे ने भी किया था: देवेंद्र फडणवीस

मुंबई। भारतीय जनता पार्टी के नेता देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार को बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रानौत की ओर से मुंबई पुलिस को लेकर दिए गए बयान की निंदा की. उन्होंने कहा कि कंगना का बयान पुलिस फोर्स का अपमान करने के बराबर है. सुशांत राजपूत केस में मुंबई पुलिस पर हमलावर रहीं कंगना रानौत ने कुछ दिन पहले कहा था कि उन्हें 'मूवी माफिया' से ज्यादा डर मुंबई पुलिस से लगता है और वो मुंबई पुलिस से सुरक्षा लेने की बजाय हिमाचल प्रदेश या फिर केंद्र से सुरक्षा देने का आग्रह करेंगी. सोमवार को उन्हें केंद्रीय गृहमंत्रालय की ओर से वाई कैटेगरी की सुरक्षा दी गई.
महाराष्ट्र विधानसभा के मॉनसून सत्र के दौरान मंगलवार को सदन में फडणवीस ने कहा कि वो मुंबई पुलिस की क्षमता से भली-भांति वाकिफ हैं, क्योंकि वो राज्य में पांच सालों के लिए मुख्यमंत्री पद पर रह चुके हैं. उन्होंने कहा, 'लेकिन पुलिस राजनीतिक दबाव के अंदर आ सकती है.'
फडणवीस ने कहा कि सुशांत राजपूत की मौत की जांच को हैंडल करने का तरीका 'गलत' था, इसलिए जांच सीबीआई को मिल गई थी. उन्होंने कहा, 'क्या हो रहा था? 40 दिनों तक तहकीकात? यह आ बैल मार मुझे मार का एकदम सटीक उदाहरण था.'
आरोप लगाए गए थे कि बीजेपी की ओर से सीबीआई जांच की मांग किए जाने की वजह से मुंबई पुलिस का मनोबल गिरा है, जिसे खारिज करते हुए फडणवीस ने कहा कि कई विधायकों ने अलग-अलग वक्त पर पुलिस को लेकर अलग-अलग तरीके के बयान दिए हैं.  उन्होंने कहा, 'यहां तक कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी कल्याण में एक रैली के दौरान कहा था कि पुलिस बस बर्तन धोने लायक है.' उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का संदर्भ बिना सम्मान के देना गलत है. उन्होंने कहा, 'भले ही हम विपक्ष में हैं, लेकिन उद्धवजी हमारे मुख्यमंत्री हैं.'
शिवसेना लगातार बीजेपी पर कंगना का बचाव करने के आरोप लगा रही है. बता दें कि कंगना रनौत सुशांत सिंह की मौत को लेकर लगातार मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र सरकार पर हमला कर रही हैं. उन्होंने कहा था कि उन्हें वर्तमान की महाराष्ट्र सरकार के दौरान मुंबई में रहने में डर लगता है. जिसपर संजय राउत ने जवाब दिया था कि अगर उन्हें डर लगता है तो उन्हें मुंबई नहीं आना चाहिए. राउत के इस बयान पर कंगना ने मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से कर दी थी, जिसका पूरे बॉलीवुड सहित आम लोगों ने भी विरोध किया था.