ये कमलनाथ की नहीं, भारतीय जनता पार्टी की सरकार है : शिवराजसिंह चौहान

भोपाल। विकास के जितने काम प्रदेश में और इस अंचल में भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने किए हैं, कांग्रेस कभी नहीं कर पाई। भाइयो-बहनो आज जिन कामों का लोकार्पण/भूमिपूजन हो रहा है, ये तो एक ट्रेलर है, असली फिल्म तो अभी बाकी है। ये कमलनाथ की नहीं, भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और विकास के कामों के लिए पैसे की कमी नहीं आने दी जाएगी। लेकिन आप भारतीय जनता पार्टी पर अपना आशीर्वाद बनाए रखें और दोनों हाथ उठाकर आने वाले चुनाव में भाजपा उम्मीदवारों को जिताने का संकल्प लें। यह बात मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने अशोकनगर जिले के मुंगावली और भिंड जिले की मेहगांव विधानसभा के अमायन में विकास कार्यों का लोकार्पण/भूमिपूजन करते के अवसर पर कही। समारोह में पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने भी संबोधित किया। 
चौहान ने कहा कि हमें उम्मीद थी कि 15 साल बाद कांग्रेस सत्ता में आई है तो पिछली गलतियों से सबक लेंगे परंतु कमलनाथ ने सरकार कैसी चलायी सभी जानते हैं। इन 15 महीनों में कभी कोई काम नहीं हुआ। कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने पूरे प्रदेश और वल्लभ भवन को भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया था। 15 महीनों में कमलनाथ कभी इस क्षेत्र में नहीं आए और न किसी से मिले। कमलनाथ कहते थे भोपाल से देखकर ही सभी समस्या दिख जाती है। अब कांग्रेस के लोग झूठ फैला रहे हैं। मैं कहना चाहता हूं कि कमलनाथ और दिग्विजय सिंह सुन लो, आग से मत खेलो। अगर जनता अपनी पर आयी तो कुछ नहीं छोड़ेगी। 
शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के साथ हमारा संकल्प है कि हम आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनायेंगे। चौहान ने कहा कि हमारी संबल योजना पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के पंचज कार्यक्रम पर आधारित है और आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का ग्राफ भी उमा भारती तैयार करेंगी। उसको प्रधानमंत्री से स्वीकृत कराके आने वाले साढ़े तीन सालों में मध्यप्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने में कोई कसर नहीं छोडेंगे।
चौहान ने कहा कि कांग्रेस ने जनहित की सारी योजनाएं बंद कर दी थीं हमने उन्हें फिर से चालू कर दिया है। कांग्रेस ने सस्ते अनाज की योजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया था, हम 16 सितम्बर से उसे फिर शुरू करने जा रहे हैं। कांग्रेस की सरकार फसल बीमा की प्रीमियम खा गई, हमने प्रीमियम जमा करके किसानों को पैसे दिलाए। अब 18 तारीख को 12 बजे 4600 करोड़ रूपए किसानों के खातों में फसल बीमा योजना के और डाले जायेगे। एक समस्या हमारे पास आई कि बिजली के बड़े-बड़े बिल आ रहे हैं। हमने पिछले महीने तक के सारे बिजली के बिल बांध कर बक्से में डाल दिए हैं। उनको भरवाने की व्यवस्था मैं करूंगा। ताकि गरीबों के घर की रोशनी जलती रहे। अगले महीने एक ही महीने का बिल आएगा।