प्रशिक्षक की जानकारी के बिना खिलाड़ियों को वीड आउट न करें : खेल मंत्री

भोपाल। खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने विभागीय गतिविधियों की समीक्षा और प्रशिक्षकों से चर्चा के दौरान कहा कि किसी भी खिलाड़ी को बिना उसके प्रशिक्षक की जानकारी और सहमति के वीड आउट (खेल से हटाना) नहीं किया जाये। सिंधिया ने कहा कि ऐसी स्थिति में जब प्रशिक्षक अवकाश पर हो अथवा किसी प्रतियोगिता में शामिल होने के लिये बाहर गया हो, उस समय वीड आउट करने की प्रक्रिया को रोका जाये। बिना प्रशिक्षक की अनुमति के खिलाड़ी को खेल से बाहर न किया जाये।
खेल मंत्री ने कुश्ती एवं कराटे के प्रशिक्षकों से चर्चा करते हुए कहा कि कोविड-19 संक्रमण के चार महीने के बाद स्थानीय खिलाड़ी धीरे-धीरे प्रशिक्षण पर लौट रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षक दूसरे जिलों की अकादमी के खिलाड़ी, जो कोविड के चलते अपने घर पर हैं, उनसे वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से चर्चा करें और उन्हें फिजिकल ट्रेनिंग तथा योग करने को प्रेरित करें।
संचालक खेल एवं युवा कल्याण पवन कुमार जैन ने जानकारी दी कि दूसरे चरण में बोर्डिंग खिलाड़ियों को बुलाने और उन्हें प्रशिक्षण दिये जाने के संबंध में प्रशिक्षकों से विस्तृत चर्चा की गई है।
खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने टी.टी. नगर स्टेडियम परिसर में खिलाड़ियों की सुविधा के लिये 17 करोड़ 21 लाख की लागत से निर्माणाधीन मल्टीपरपज इण्डोर हॉल का भी निरीक्षण किया। इस अवसर पर प्रमुख सचिव खेल एवं युवा कल्याण पंकज राग भी मौजूद थे।