कांग्रेस ने 574 वचनों को पूरा कर राजनीति में एक आर्दश स्थापित किया: कमलनाथ

भोपाल। आज कांग्रेस ने 28 विधानसभा उपचुनाव को देखते हुए अपना मुख्य वचन पत्र जारी किया, 52 बिंदुओं वाले इस वचन पत्र के माध्यम से प्रदेश के विकास की नई तस्वीर लिखी जाएगी। इस वचन पत्र को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह, पूर्व मंत्री सुरेश पचौरी और राष्ट्रीय प्रभारी सचिव सी.पी. मित्तल ने जारी किया। 
वचन पत्र जारी करते हुए कमलनाथ ने कहा कि हमने वर्ष 2018  के वचन पत्र के 974 बिंदुओं में से 574 बिंदुओं को पूरा कर राजनीति के क्षेत्र में एक आदर्श स्थापित किया। प्रदेश में दोबारा हमारी सरकार बनने पर इस वचन पत्र के सभी बिंदुओं को हम हर हाल में पूरा करेंगे। आज शिवराजसिंह अपने 15 वर्ष के हिसाब पर बात नहीं करते। भाजपा सरकार, जिसने 15 वर्ष जनता के हित में कुछ नहीं किया और अभी 7 माह में भी उनकी कोई उपलब्धि नहीं है? ऐसी भाजपा को जनता आखिर वोट क्यों दे? प्रदेश की जनता गवाह है कि किस तरह सौदेबाजी की, बोली लगाकर आखिर चुनी हुई सरकार को गिरा दिया गया। पिछले 7 माह में कोरोना को लेकर भी इनकी असफलता सामने आ चुकी है, न लोगों के टेस्ट हो पा रहे हैं और न लोगों को उचित इलाज मिल पा रहा है। शिवराज जी जनता को गुमराह करने के लिए रोज झूठे नारियल फोड़ रहे हैं, झूठी घोषणाएं कर रहे हैं।
कमलनाथ ने कहा कि आज भाजपा नेताओं से युवाओं के रोजगार की बात, किसानों के हित की बात की जाए तो ये पाकिस्तान, कश्मीर और चीन की बात करने लग जाते हैं। जनता इन्हें इनके कार्यों और जनविरोधी नीतियों को देखते हुए जरूर सबक सिखाएगी। हमारी सरकार आने पर हम कोरोना से प्रभावित परिवार के मुखिया की मृत्यु होने पर उसकी विधवा को ‘‘कोरोना सामाजिक सुरक्षा’’ पेंशन देंगे, बचे हुए किसानों की कर्ज माफी करेंगे, फिर से 100 रू. में 100 यूनिट बिजली देंगे, जो शिवराज सरकार ने बंद कर दी है। केंद्र सरकार के किसान विरोधी कानूनों को मप्र में लागू नहीं करेंगे। मिलावट खोरी करने वालों के खिलाफ शुद्व के लिए युद्व अभियान, माफियाओं के खिलाफ अभियान फिर शुरू करेंगे।  कांग्रेस सरकार के समय दिए वचन अनुसार सामाजिक सुरक्षा पेंशन राशि 300 से बढ़ाकर 600 कर दी थी, अब उसे 800 रू. प्रतिमाह करेंगे फिर 1000 रू. तक बढ़ाएंगे। कन्याओं के विवाह के लिए कांगे्रस सरकार ने सहायता राशि बढ़ाकर 51 हजार रू. की थी, शिवराज ने आते ही उसे बंद कर दिया, कांगे्रस उसे पुन चालू करेगी। कोरोना संक्रमण काल में समर्पण भाव से काम करने वाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ता-सहायिका एवं आशा कार्यकर्ताओं के मानदेय में वृद्धि करेंगे। महिलाओं के सशक्तिकरण एवं बहन-बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने हेतु स्व सहायता समूह गठित कर 5 लाख रू. तक का ऋण देंगे। कोरोना संक्रमण काल में राज्य की संस्थाओं द्वारा बेरोजगार युवाओं के लिए आयोजित प्रतियोगी परीक्षाओं का शुल्क कांगे्रस सरकार भरेगी। कोरोना काल के दौरान प्रभावित छोटे व्यापारी, फुटकर धंधा करने वाले, कारीगर एवं शिल्पियों आदि का व्यापार एवं धंधा पुनः स्थापित करने के लिए 50 हजार रू. तक का ऋण बिना ब्याज पर उपलब्ध कराऐंगे, जिसकी गारंटी सरकार देगी। अतिथि शिक्षकों, गुरूजियों, अतिथि विद्वानों की मांगों का निराकरण करेंगे तथा चयनित शिक्षकों की लंबित पड़ी नियुक्तियां देना प्रारंभ करेंगे। विद्युत कंपनियों के आउटसोर्स कर्मचारियों की मांगों का भी निराकरण करेंगे। रानी लक्ष्मीबाई की वीरता और शौर्य को प्रदेश में चिरस्थायी बनाने के लिए शैक्षणिक संस्थाओं में कार्यक्रम आयोजित होंगे। ग्राम महिला सुरक्षा समितियां शहरों में वार्ड महिला सुरक्षा समितियों का गठन, बहन-बेटियों को सुरक्षा उपयों से जागरूक करने के लिए शिविर लगाकर आत्मरक्षा हेतु प्रशिक्षण प्रारंभ करेंगे।