अब हमारे विकास के रिकार्ड भी हम ही तोड़ेंगेः शिवराजसिंह चौहान

भोपाल। अभी संकट का समय जरूर है लेकिन यह संकट ज्यादा समय नहीं रहेगा। खजाने में पैसा नहीं है लेकिन विकास के कामों को हमने रूकने नहीं दिया है। प्रदेश में 15 माह कांग्रेस की सरकार रही लेकिन इन्होंने विकास के काम करने के बजाए जनता के लिए चल रही महत्वाकांक्षी योजनाओं को ही बंद कर दिया था। हमारा संकल्प है कि मध्यप्रदेश को स्वर्णिम मध्यप्रदेश बनाकर ही दम लेंगे। वर्ष 2003 के बाद भाजपा सरकार ने बंटाढार मध्यप्रदेश को विकास की राह पर लाकर खड़ा किया है और अब हम हमारे ही विकास के रिकार्डों को तोड़ेंगे। ये बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कही। वे मंगलवार को जौरा विधानसभा में आयोजित जनसभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने अम्बाह विधानसभा के नगरा एवं गोहद विधानसभा के मौ में भी सभाओं को संबोधित किया।
चौहान ने कहा कि कांग्रेस के पास चुनावी मुद्दे नहीं हैं। इनके पास विकास की बातें नहीं है इसलिए तो इनके पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भाजपा सरकार के कामों को और मुझे कोस रहे हैं। वे कभी नालायक कह रहे हैं तो कभी नंगे-भूखे की संज्ञा दे रहे हैं। उन्होंने हमारी कैबिनेट सदस्य इमरती देवी को अपशब्द कहे। वे विकास की बातें तो कर नहीं रहे हैं और चुनावी मुद्दों से हटकर व्यक्तिगत आरोप-प्रत्यारोप कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में भाजपा सरकार में चल रही योजनाओं को बंद कर दिया गया। गरीबों के कफन के पांच हजार रूपए भी छिन लिए। मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की राशि नहीं दी। कमलनाथ ने 15 माह तक मध्यप्रदेश में विकास तो कुछ किया नहीं बल्कि वल्लभ भवन को दलालों का अड्डा बनाकर रख दिया।
शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ ने इमरती देवी का अपमान किया है उन्हें अपशब्द कहे हैं। इनके एक अन्य नेता कह रहे हैं कि इमरती को जलेबी बना देंगे। वे कह रहे हैं कि शिवराज सिंह चौहान तो कंस हैं इमरती देवी पुतना है और कमलनाथ श्रीकृष्ण हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कमलनाथ और इनके कांग्रेस के नेता अपने दंभ और अहंकार में चूर हैं। उन्हें माताओं-बहनों की इज्जत करना नहीं आता है। इनके नेता  राहुल गांधी ने कमलनाथ की करतूत पर माफी मांगी है लेकिन सिर्फ माफी मांगने से काम नहीं चलेगा कमलनाथ पर कार्रवाई भी होनी चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की सरकार में विकास के काम तो कुछ नहीं हुए लेकिन भ्रष्टाचार जमकर किया। इन्होंने अफसरों से पैसे लेकर उनका तबादला किया। वल्लभ भवन को दलालों का अड्डा बनाकर रखा। विकास के नाम पर हमेशा पैसों का रोना रोया लेकिन आईफा अवार्ड जैसे आयोजनों पर करोड़ों रूपए फूंकने की तैयारी कर ली। किसानों से वादाखिलाफी की। किसानों से कर्जमाफी का वायदा करके सरकार में आ गए लेकिन वादा पूरा नहीं किया। इन्होंने प्रदेश की जनता के साथ छलावा किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरा तो राजनीति में आने का मकसद ही प्रदेश की जनता की सेवा करना है। इसमें कोई कोर-कसर नहीं छोड़ूंगा। मेरे लिए तो मध्यप्रदेश मंदिर है और प्रदेश की जनता ही भगवान है और उनका सेवक शिवराज सिंह चौहान है।
चौहान ने कहा है कि सरकारी नौकरियों पर से प्रतिबंध हटा दिया गया है। अब ज्यादा से ज्यादा प्रदेश के युवाओं को ही सरकारी नौकरियों में प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि जल्द ही विभागों के रिक्त पड़े पदों पर भर्तियां की जाएंगी। 75 प्रतिशत प्रदेश के युवाओं को मौका दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार ने विकास के नए आयाम खड़े किए हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा भाजपा सरकार ने जो भी वादा किया उसे हर हाल में पूरा किया है। उन्होंने कहा कि जब मैं पहली बार मुख्यमंत्री बना था तो मैंने कहा था कि चंबल के बीहड़ों में डाकू रहेंगे या प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान रहेगा। हमने चंबल के बीहड़ों से डाकुओं का सफाया कर दिया और अब उन बीहड़ों को रोशन भी करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस चुनाव को हल्के में नहीं लेना है। यह चुनाव प्रदेश की तस्वीर और तकदीर तय करेगा।