बच्चों को मिला कलेक्टर लवानिया का दुलार और सौ-सौ रुपए के साथ पेन का पुरस्कार

भोपाल। कलेक्टर अविनाश लवानिया ने बैरसिया के खाताखेड़ी गांव के बच्चे बालक राम राजा, हरि राजा और उसके छोटे भाई के साथ बिताए पलों को यादगार बना दिया। कलेक्टर लवानिया बैरसिया विकासखंड के ग्राम खाताखेड़ी और चंद्रपुरा में भ्रमण के लिए पहुँचे थे। यहाँ पर वन अधिकार पट्टाधारकों को शासन की किसी न किसी योजना का लाभ भी दिलाया जा रहा है।
कलेक्टर खाताखेड़ी गांव के वन अधिकार पट्टेधारी भागवत मीणा के घर पहुँचे और उनके बच्चों से पढ़ाई के संबंध में बात की। तीनों भाईयों से अलग से बात करते हुए पहले भाई रामराजा से 12 का पहाड़ा पूछा और बच्चों ने सुना दिया गया, दूसरे भाई ने 15 का पहाड़ा नहीं बताने पर तीसरे भाई के द्वारा इस पहाड़े को बताया गया जिससे दूसरा भाई हरिराजा थोड़ा सा उदास हो गया कलेक्टर ने दोनों भाईयों को 100-100 रुपए पुरस्कार स्वरूप दिए। जब बीच वाला भाई हरि राजा 9 का पहाड़ा नहीं बता पाया तो कलेक्टर ने उससे कहा कि तुम पढ़ाई ठीक से करो, बच्चा थोड़ा सा असहज हुआ किंतु बाद में उसने 9 का पहाड़ा सुना दिया जिस पर कलेक्टर लवानिया ने उसको गले लगाया और अपना पेन भी उसको दिया और बोला कि अच्छी पढ़ाई ही भविष्य में बेहतर इंसान बनने में काम आएगी इसलिए पढ़ाई पर ध्यान दो। 
जिला पंचायत, भोपाल सीईओ विकास मिश्रा ने बताया कि भोपाल जिले के प्रत्येक ग्राम पंचायत में "माँ की पाठशाला" का कार्यक्रम भी शुरू किया गया है जिसमें स्कूल बंद होने पर भी ग्राम पंचायत भवनों में बच्चों को बेसिक शिक्षा के लिए "माँ की पाठशाला" में पढ़ाया जा रहा है जिससे बच्चों का पढ़ाई में मन लगा रहे और वह पढ़ाई से एकदम दूर ना हो। इसके साथ ही जिला पंचायत द्वारा लगातार शासन की योजना का लाभ प्रत्येक परिवार को दिलाने के लिए विशेष अभियान भी चलाया जा रहा है। शासन की कम से कम किसी एक योजना का लाभ हर हाल में वन अधिकार पट्टाधारकों को दिया जा सके।