वचन देता हूं, दमोह-बांदकपुर के विकास में कोर-कसर नहीं रहने दूंगाः शिवराजसिंह चौहान

दमोह। दमोह के विकास के लिए राहुल लोधी भाजपा में आये, विधायकी छोड़ी। मुख्यमंत्री के नाते मैं वचन देता हूं कि बादंकपुर और दमोह के विकास में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ूंगा। पीने के पानी की समस्या के निदान के लिए 700 करोड़ की पेयजल योजनाएं मंजूर हुई है। हर घर तक सतधारू, पंचमनगर और सीतानगर पेयजल योजना से नल के द्वारा पीने का पानी पहुंचेगा। बांधों का काम चल रहा है, पूरा होते ही हर खेत, हर किसान को सिंचाई के लिए पानी मिलेगा। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हम लगातार विकास कर रहे हैं और आने वाले तीन वर्षों में कोई भी गरीब कच्चे मकान में नहीं रहेगा, सबको पक्का मकान मिलेगा। पार्टी प्रत्याशी राहुल लोधी ने विकास के जो सपने दमोह के लिए देखे हैं उन्हें पूरा करने का काम मैं करूंगा। यह बात मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान ने सोमवार को दमोह विधानसभा के बांदकपुर में आयोजित सभा में कही। सभा को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने भी संबोधित किया।
चौहान ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में हम दमोह विधानसभा में थोड़े से वोट से हार गये थे। मध्यप्रदेश में भी 2-3 सीटों से पीछे रह गये थे। तब हमने तय किया कि हम सरकार नहीं बनायेंगे और कांग्रेस ने सरकार बनाई, लेकिन बहुमत उनके पास भी नहीं था। उन्होंने कहा कि सवा साल के लिए कांग्रेस की सरकार बनी, लेकिन सब जानते हैं कि उनकी सरकार कैसे चली। उन्होंने जनता से लगातार कर्ज माफी का झूठ बोला, जिसके कारण किसान डिफाल्टर हो गये। कांग्रेस की सरकार ने 0 प्रतिशत ब्याज पर किसानों को कर्ज देना बंद कर दिया, राहत की जो राशि हम किसानों को देते थे, वो भी बंद कर दी। कमलनाथ सरकार ने फसल बीमा योजना का पैसा भी नहीं भरा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने वचन-पत्र का एक भी वचन पूरा नहीं किया। गरीब कल्याण की जो योजनाएं हमने प्रारंभ की थी, उन्हें भी कांग्रेस ने पूरी तरह बंद कर दिया था। संबल योजना को उन्होनें बंद कर दिया। गर्भवती महिलाओं को मिलने वाली 16000 की राशि, गरीब बच्चों की फीस जो भाजपा सरकार भरती थी, उसे भी कमलनाथ सरकार ने बंद कर दिया। बेटियों को शादी के नाम पर छला, उन्हें 51 हजार रू. देने का वादा किया वह भी पूरा नहीं किया।
चौहान ने कहा कि राहुल सिंह लोधी विधायक बने और मुख्यमंत्री कमलनाथ के पास दमोह में मेडिकल कॉलेज की मांग को लेकर पहुंचे तो कमलनाथ ने कहा चलो-चलो। राहुल विकास की बात करते थे, पेयजल व्यवस्था की बात करते थे,  तो कमलनाथ चलो-चलो कहते थे,  तो राहुल सिंह लोधी ने उस कांग्रेस को ही चलो-चलो कह दिया। उन्होनें कहा कि क्षेत्र के विकास के लिए राहुल ने अपने आप को समर्पित कर दिया और विधायकी छोड़कर भाजपा में शामिल हो गये। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह अभी चुनाव प्रचार करते हुए झूठ फैला रहे थे।  मैं जनता से यह पूछता हूं कि अगर हम गलत होते, तो 28 विधानसभा क्षेत्रों में हुए उपचुनाव में हमें जनता का समर्थन कैसे मिलता और हमें जनता कैसे जिताती। उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने मध्यप्रदेश को लूट लिया था, बर्बाद कर दिया था, वल्लभ भवन को दलालों का अड्डा बना दिया था। उन्होंने कहा कि कांग्रेसियों के चक्कर में मत आना, ये झूठी बातें करेंगे। आपको सिर्फ कमल के फूल वाला बटन दबाना है।
विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि किसी भी गरीब का एक सपना होता है कि उसका खुद का पक्का मकान हो। गरीब के इस सपने को पूरा करने का काम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री आवास योजना के माध्यम से पूरा कर रहे हैं। माताओं-बहनों को उज्जवला योजना की सौगात दी है और आयुष्मान भारत योजना के तहत गरीब परिवारों को 5 लाख रू. तक के निःशुल्क इलाज की व्यवस्था भी मोदी सरकार ने की है। उन्होनें कहा कि मध्यप्रदेश के संवेदनशील मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गरीबों के लिए संबल योजना शुरू की। माता-बहनों के लिए कन्यादान योजना, लाड़ली लक्ष्मी योजना, तो बुजुर्गों के लिए तीर्थदर्शन योजना शुरू की। लेकिन दुर्भाग्य से प्रदेश में 15 महीने के लिए कमलनाथ सरकार आ गई, जिसने गरीबों से उनका हक छीन लिया और सारी योजनाएं बंद कर दी। उन्होंने कहा कि कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने 15 महीनों में मध्यप्रदेश को लूटने का काम किया।
शर्मा ने कहा कि कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह और कमलनाथ आज बड़ी-बड़ी बातें करते हैं, लेकिन उन्होंने झूठ और छल-कपट के आधार पर 28 विधानसभाओं का उपचुनाव लड़ा और भाजपा ने विकास के आधार पर। इन उपचुनावों में जनता ने कांग्रेस को यह बता दिया कि धोखा किसने दिया, झूठ किसने बोला और गरीबों का हक किसने छीना। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की रवानगी तो 28 विधानसभाओं के उपचुनाव के नतीजों के साथ ही तय हो चुकी थी, अब तो सिर्फ वह अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है। उन्होंने कहा कि दमोह उपचुनाव में भाजपा की विराट विजय के बाद कांग्रेस ढूंढ़ने से भी नहीं मिलेगी। शर्मा ने कहा कि इस क्षेत्र का विकास, मध्यप्रदेश का विकास और इस देश का विकास किसी दल के साथ संभव है तो केवल भाजपा के साथ ही हो सकता है। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि राहुल लोधी ने भारतीय जनता पार्टी के साथ मिलकर दमोह के विकास का जो संकल्प लिया है, वह दमोह की जनता के सहयोग के बिना पूरा नहीं हो सकता। इसलिए उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी को अपना बहुमूल्य आशीर्वाद देकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के हाथ मजबूत कीजिये तथा देश और प्रदेश के विकास में सहभागी बनें।
केन्द्रीय मंत्री एवं क्षेत्रीय सांसद प्रहलाद पटेल ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस चुनाव में कांग्रेस द्वारा भ्रम फैलाने की कोशिश खूब हो रही है, लेकिन यहां की शिवभक्त जनता शिव की भांति ही सरल और सहज है। उन्होंने कहा कि आपको स्मरण होगा कि भगवान श्रीकृष्ण तो बच्चे थे, लेकिन जब वहां पूतना आई तो वह मां के स्वरूप में आई थी, लेकिन वह राक्षस थी और नुकसान पहुंचानें के उद्देश्य  से आई थी। इसी तरह यहां भी भ्रमित करने वाले अलग-अलग रूपों में आएंगे। इसलिए हमें सजग और सचेत रहते हुए मतदान करना है। उन्होनें कहा कि अगर आपका वोट भाजपा को मिलेगा तो वह राष्ट्र सम्मान के लिए, धारा-370 हटाने तथा श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण जैसे ऐतिहासिक निर्णयों के लिए और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में होने वाले प्रदेश के चहुंमुखी विकास के लिए होगा।
पटेल ने कहा कि जब कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार आती है तो प्रदेश में गरीबों की मुस्कान छिन जाती है। अगर आपका वोट भाजपा के लिए डलता है, तो वह उस किसान के लिए होता है जिसके खाते में सम्मान निधि के रूप में प्रतिवर्ष 10 हजार की राशि जमा होती है। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव में जितने अंतर से आपने भाजपा को जिताया उससे अधिक अंतर के साथ दमोह उपचुनाव में पार्टी प्रत्याशी श्री राहुल सिंह लोधी को विजयी बनायें।
मध्यप्रदेश शासन के मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी काम में विश्वास रखती है और जनता के दुःख-दर्द की हमेशा चिंता करती है। उन्होंने कहा कि 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने बड़े-बड़े वादे किये और सपने दिखाये। लेकिन जब उन्हें काम करने का मौका मिला तो उन्होनें सिर्फ गप्पबाजी की। न बेटियों को कन्यादान योजना का पैसा मिला और न ही किसानों का कर्ज माफ हुआ। कमलनाथ सरकार ने सिर्फ कोरी बातें ही की और इसी कारण उनकी सरकार गिरी। उन्होंने कहा कि पिछले एक साल में शिवराज सिंह चौहान ने मजदूरों, किसानों के लिए योजना फिर से शुरू की और गरीबों को उनका हक दिया। उन्होंने कहा कि  हमने एक साल में जो विकास के काम किये हैं,  आने वाली 17 तारीख को भाजपा के पक्ष में मतदान करके उन पर मोहर लगाइये।