पीवी सिंधु ने रचा इतिहास, दो ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनीं

भारत की दिग्गज बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु भले ही गोल्ड मेडल नहीं जीत पाई हैं लेकिन ब्रॉन्ज मेडल जीतने में सफल हो गई हैं. सिंधु ने दोनों सेटों में चीन की शटलर हे बिंगजिआओ को 21-13 और दूसरा सेट 21-15 से जीतकर इतिहास रच दिया है. रियो ओलंपिक में भी सिंधु ने सिल्वर मेडल जीता था. सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में पदक जीकर ऐतिहासिक कमाल भी कर दिखाया है. सिंधु  भारत की इकलौती ऐसी महिला खिलाड़ी बन गए हैं जिनके नाम अब ओलंपिक में  दो व्यक्तिगत मेडल जीतने का अनोखा कमाल दर्ज है. रियो ओलंपिक में भी सिँधु ने कमाल का परफॉर्मेंस दिखाया था. सिंधु के पदक जीतने के साथ ही भारत को अब ओलंपिक में दो मेडल आ गए हैं. 
पीवी सिंधू ने विरोधी खिलाड़ी बिंगजयाओ को पहले गेम में 21-13 से हराया. शुरू से ही सिंधु ने आक्रमक अंदाज में विरोधी शटलर के खिलाफ खेलती नजर आई. यही कारण रहा कि चीनी शटलर को ज्यादा मौके नहीं मिले. सिंधु ने अपने पहले ही गेम में दिखा दिया था कि आज उन्हीं का दिन होने वाला है.
दूसरे गेम में भी पीवी सिंधु ने बढ़त बनाने का काम किया है. इस मैच में सिंधु पुरानी गलतियों को नही दोहरा रही है. एक समय  स सिंधु चीन की खिलाड़ी से 7-5 से आगे चल रही थी लेकिन बिंगजिआओ ने गेम में वापसी की और सिंधु के बढ़त को कम करने की कोशिश करती दिंखीं. दूसरे गेम के हाफ में सिंधु 11-8 से आगे चल रही हैं. हाफ गेम के बाद चीन की शटलर ने वापसी करते हुए स्कोर को 11-11 पर लाकर खड़ा कर दिया है.
लेकिन इसके बाद सिंधु ने जबरदस्त वापसी की और अपने शानदार तेज स्मैश से विरोधी शटलर को खूब परेशान करने में सफल रही. कुछ ही समय में सिंधु ने फिर से बढ़त बना ली. आखिर में सिंधु ने दूसरा सेट 21-15 से जीतकर इतिहास रच दिया.